पूर्व सिरमौर मीडिया प्रभारी व सोशल मीडिया प्रभारी लोकसभा शिमला सुनील चौहान का कहना है की हिमाचल प्रदेश का आर्थिक तौर पर दिवालिया करना व कर्जो में डुबोने के बाद भी सरकारी खर्चे पर अमृत महोत्सव के बहाने की जा रही भाजपा की राजनीतिक रैलियां, सारे प्रदेश में लाखों, करोड़ो की लागत से वॉटर प्रूफ़ टेंट लग रहे हैं।परिवहन निगम का जबरदस्त तरीक़े से दुरपयोग हो रहा है। सरकारी अमला भाजपा के कार्यक्रम करवा रहा है। विडम्बना है कि में भाजपा रैली के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम की सभी बस रूटों को भीड़ जुटाने के लिए लगाया जा रहा है और लोकल रूट रद्द कर रहे है परिवहन निगम भारी भरकम घाटे में चल रही है परन्तु इन्हें रैली की पड़ी है कि कैसे दुबारा सता हासिल की जाएं ,बसे भरने की जिम्मेवारी पंचायत सचिवों को दी गई। प्रदेश की यह दुर्दशा सारा हिमाचल देख रहा है कि महंगाई परवान पर है,कर्मचारियों को पेंशन् , तनख्वाह ,भते देने को पैसे नहीं, 75 रेलीयाँ सरकारी खर्चे पर कर और फिज़ूल खर्ची के तमाम रिकॉर्ड तोड़ डालने से भी भाजपा को सत्ता नही हासिल हॉगी ,आशा वर्कर व स्वयं सहायता समूह की महिलाओ को आदेश दिए जा रहे है कि रैलियों में आना है लोगो का इनसे मोह भंग हो गया है जिस कारण रैलियों में भीड़ जुटाने के लिए सरकारी कर्मचारियों को आने के आदेश जारी कर रहे है सुनील चौहान का कहना है कि बीजेपी को रैलियों की पड़ी है और हिमाचल प्रदेश में बरसात से लाखों करोड़ों का नुकसान हुवा है कई जगह तो मंजर इतना खतरनाक था कि कई जाने चली गई परन्तु बीजेपी नेताओं को इनसे कोई वास्ता नही है उन्हें तो रैलियों की पड़ी है किस तरह भीड़ जुटाई जाए वैसे ही हिमाचल के साथ सिरमौर में भी बरसात ने तहलका मचाया हुवा है सबसे ज्यादा नुकसान शिलाई विधानसभा में हो रहा है लोगो की फसल बरबाद हो गई सड़के बदहाल हो गई पीने के पानी के टैंक तबाह हो गए है मलबा खेतो में चला गया नगदी फसल बरबाद हो गई और बीजेपी नेता बलदेब तोमर जो बोलते है मुख्यमंत्री के करीबी है उन्हें रैलियों की पड़ी है कि 26 अगस्त को मुख्यमंत्री की रैली को कैसे सफल बनायें इन्हें जनता से कोई लेना देना नही है हम बलदेब तोमर से जानना चाहता है कि बरसात से हुए नुकसान के लिए आपने क्या किया क्या मौके पर तहसील दार पटवारी को भेजा परन्तु आपको जनता की पड़ी ही नही है आपको तो अपनी पड़ी है कि कैसे चुनाव जीता जाएं उसके लिए चाहे दलित भाई व राजपूत भाइयों को लड़ाया जाएं कियोंकि देश मे बीजेपी मुस्लिम ,व हिंदुओ को लड़ाने का काम कर रही है और जहां पर मुस्लिम नही है वहां पर आप जैसे बीजेपी नेता दलित व राजपूतों को लड़ाकर अपनी राजनीति रोटी सेक रही है जो चलने वाला नही है दूसरी बात ये है कि आप हाटी का रोना रो रहे है जबकि जब आप राजनीति में भी नही आएं थे यहां तक बीजेपी पार्टी भी नहीं थी तब से हाटी का मुद्दा चला हुवा है इसमे सभी का सहयोग रहा सबने इसमे काम किया पर आप हाटी समिति की आड़ में अपनी राजनीति रोटी सेक रहे है जो सरासर गलत है वोट बैंक की राजनीति कर रहे है हाटी के हर मंच से वोट मांग रहे है जबकि 1993 में ठाकुर हर्षवर्धन चौहान ने हाटी का नाम सरकार व प्रशसन पर दबाव डालकर रजिस्ट्रेशन करवाया था परन्तु उन्होंने कभी भी हाटी के नाम पर वोट नही मांगे 5 वार विधायक बने है पर हाटी के नाम वोट नही मांगे जबकि आप ने व आपके सांसद ने 2014 का चुनाव भी और 2019 का चुनाव भी हाटी के नाम से लड़ा था और जनता ने वोट भी दिए और जिताएं भी और तोमर साहब आपके घोषणा पत्र में भी ये मांग थी अगर होता है तो हम इसका स्वागत करते है पर इसमे आपका ही योगदान है कि ये बात गलत है रोनाहट में शिलाई में रेणुका जी में महा खुमली हुई क्या उसमे कांग्रेस क़े लोग नही आएं ज्यादा संख्या में कांग्रेस के ही लोग थे ,सब चाहते हो कि हो पर राजनीति से ऊपर उठकर और हाटी समिति के लोग भी जो बड़े बड़े पदों पर है बीजेपी की पृष्ठभूमि के है और आपका गुणगान कर रहे है जो गलत है इसलिए आप बरगलाने की राजनिति छोड़कर शिलाई के विकास पर ध्यान दो घोषणा करने से कुछ नही होता जमीनी स्तर पर काम करना पड़ता है स्कूल ,अस्पतालों में कर्मचारी है नही कही पर भी किसी भी सरकारी महकमे में स्टाफ है नही कही पर ताले लटके पड़े है स्टाफ लाने की जगह आप राजनीति कर रहे है और कही पर सरकारी भवन का काम अधूरा लटका है बिजली पानी है नही आप उद्धघाटन कर रहे ,उसका क्या फायदा होगा , आप एक स्किम बताये जो आपके राज में बनी हो और कम्पलीट हुवा सारे काम हर्षवर्धन चौहान ने कराए आप तो सिर्फ फीते काट रहे है 4 सालो से ,सुनील चौहान का कहना है कि जब जब बीजेपी सता में आती है महंगाई ,भ्र्ष्टाचार ,चोरी लूटपाट ,गुंडागर्दी ,बलात्कार अवैध खनन ,व शराब माफिया का बोलबाला चरम पर होता है ,और ये हाल शिलाई में भी है ब्लॉकों में भ्र्ष्टाचार दबा कर हो रहा है खुलेआम कमीशन खोरी चल रही है किसी से छिपा नही ही ,अवैध खनन चरम पर है शराब माफिया को डर नही है और ये तभी सम्भव होता है जब किसी बीजेपी नेता का हाथ उनके ऊपर हो ,सुनील चौहान ने कहा शिलाई में जो मल्टिटास्क कि भर्तियां हुई उसमे भी भ्र्ष्टाचार हुवा भाई भतीजावाद हुवा अपने चेहतों रिस्तेदारो को नोकरी दी गई जो जांच का विषय है ,कांग्रेस सरकार आते ही सबकी जांच की जाएगी ,और दूध का दुध और पानी का पानी होगा ,तोमर साहब आप शिलाई की जनता को बरगला नही सकते यहां की जनता समझदार है पढ़ी लिखी है और 2022 के चुनाव में आपको जावब जरूर देगी कियोंकि महंगाई ,बेरोजगारी , भ्र्ष्टाचार, चोरी डकैती ,से परेशान है लोग।

Leave a Reply

Your email address will not be published.