श्री गुरु गोविंद सिंह जी राजकीय महाविद्यालय पांवटा साहिब में शनिवार को राष्ट्रीय सेवा योजना स्थापना दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। स्थापना दिवस के इस कार्यक्रम में ना केवल इकाई के स्वयंसेवक बल्कि अन्य छात्रों ने भी बढ़ चढ़कर भाग लिया। वहीं कार्यक्रम में छात्रों द्वारा रंगारंग प्रस्तुतियां भी दी गई। जिसमें नाटी, भांगड़ा , सोलो डांस आदि की झलक देखने को मिली।

राष्ट्रीय सेवा योजना दिवस के अवसर पर पांवटा प्रेस क्लब के अध्यक्ष, हिमोत्कर्ष संस्था जिला सिरमौर के अध्यक्ष और समाजसेवी राजेंद्र प्रसाद तिवारी ने बतौर मुख्य अतिथि के रुप में शिरकत की। इस उपलक्ष्य पर बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे समाजसेवी राजेंद्र प्रसाद तिवारी ने बताया कि सेवा भाव हमारी संस्कृति में हैं। और हिंदू धर्म में भी कहा गया है कि सेवा ही धर्म है। राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक सेवा भाव से जुड़े हुए हैं।

एनएसएस प्रभारी डॉ जयचंद शर्मा ने बताया कि 24 सितंबर 1969 को पहली बार 37 विद्यालयों में एनएसएस दिवस मनाया गया था। और आज 37 लाख लोग एनएसएस से सीधे तौर पर जुड़े हुए। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवकों को सर्वप्रथम अनुशासन के बारे बताया जाता है। और महाविद्यालय के स्वयंसेवक सामाजिक कार्यों में भी अपना बेहतरीन दायित्व निभाते हैं। उन्होंने कहा कि एनएसएस इकाई द्वारा महाविद्यालय में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित होते हैं। विद्यार्थियों का शारीरिक और मानसिक विकास करने , लोगों को जागरूक करना, आसपास के क्षेत्रों में सफाई करना, इन सब गतिविधियों में विद्यार्थियों की रुचि रहती है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना के माध्यम से शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थी का सर्वांगीण विकास होता है।
उन्होंने कहा कि इससे राष्ट्र सेवा की भावना जागृत होती है। सेवा भाव से एनएसएस के स्वयं सेवक अग्रिम पंक्ति में खड़े रहते हैं।

साथ ही एनएसएस प्रभारी प्रो. नंदिनी कंवर ने स्वयंसेवकों द्वारा किए गए कार्यों की विस्तारपूर्वक जानकारी दी।
इस दौरान राष्ट्रीय सेवा योजना की स्वयं सेविका अमीषा ने मंच से एनएसएस के महत्व को बताया। साथ ही उन्होंने इसके उद्देश्य को समझाते हुए कहा कि इस से सार्वजनिक तौर पर शारीरिक और मानसिक विकास होता है। और विद्यार्थियो को हर दिन नई बातें सीखने को मिलती है।


शिक्षा के साथ साथ समाज के बारे में भी पता चलता है। और सबसे खास बात है कि इसके माध्यम से सीधे तौर पर समाज से जुड़ने का अवसर मिलता है।
उन्होंने कहा कि गुरू शिष्य को एक सही दिशा में लाने का प्रयास करते हैं। गुरू और माता पिता का हमेशा सम्मान करना चाहिए। साथ ही उन्होंने गुड टच बैड टच को लेकर भी विद्यार्थियो को बताया।

आजादी के अमृत महोत्सव पर स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत महाविद्यालय में विभिन्न प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई थी। पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा वर्षा , दुसरे स्थान पर विशाल और तृतीय स्थान पर रजत कुमार रहे। जिन्हें मुख्य अतिथि ने पुस्कार दे कर सम्मानित किया।

इस दौरान मुख्य अतिथि राजेन्द्र प्रसाद तिवारी, पीटीए अध्यक्ष , एनएसएस प्रभारी डॉ जयचंद शर्मा, प्रो. नंदिनी, विम्मी रानी, प्रो. रीना चौहान, रेणु शर्मा, धनमंती सहित सभी एनएसएस के स्वयं सेवक और अन्य छात्र मोजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed