हाटी समुदाय के केंद्र सरकार से जनजातीय घोषित करने के बाद पहली बार कमरऊ पंचायत में बलदेव तोमर का धन्यवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें हाटी समुदाय के लोगों ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया।

आयोजित धन्यवाद कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए खाद्य आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बलदेव तोमर ने कहा कि हमारे उपर देवी देवताओं का आशिर्वाद रहा है क्योंकि कमरऊ मंदिर में मैंने कसम खाई थी कि अगर में हाटी समुदाय को जनजातीय घोषित नहीं करवा पाया तो में क्षेत्र में वोट मांगने नहीं आऊंगा। लेकिन देवी देवताओं ने हमारे क्षेत्र पर पूरा आशिर्वाद रखा और केंद्र सरकार ने हमारी यह मांग पुरी कर हमें बहुत बड़ी सौगात दी है। बलदेव तोमर ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपने आप को हाटी समझा तथा 55 साल पुरानी मांग को केंद्र में बड़ी प्रमुखता से रखा और हमारी मांग को पूरा करवाया। उन्होंने कहा कि इस पहले भी प्रदेश और केंद्र में कांग्रेस की सरकारें रही लेकिन कांग्रेस ने हाटी समुदाय की भोलीभाली जनता को खाली वोटबैंक के लिए इस्तेमाल किया व लोगों को ठगते रहे। बलदेव तोमर ने कहा कि शिलाई में हाटी समुदाय ने एक महा खुमली का आयोजन किया तथा उस खुमली में कांग्रेस के नेताओं ने बड़ी बाते करी लेकिन हाटी मुद्दे का हल देख हाटी खुमली से दूरी बनाकर दलित समुदाय के लोगों को भड़काने का काम किया। बलदेव तोमर ने कहा कि शिलाई में 60 साल तक एक ही परिवार ने राज किया लेकिन उन्होंने क्षेत्र के हमेशा पिछड़ा रखा। उन्होंने कहा कि अगर जौनसार बावर के साथ हमारे गिरिपार क्षेत्र को भी जनजातीय घोषित करवा देते तो हमारे क्षेत्र से सैकड़ों युवा उच्च पदों पर होते। लेकिन कांग्रेस हमारे क्षेत्र को विकसित नहीं देख सकते। मुख्यमंत्री ने गिरिपार क्षेत्र का मामा बनकर हमारी यह मांग पूरी करवाई मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपना वादा पूरा कर दिया है अब ऋण चुकाने का समय आ गया है। इस लिए आने वाले विधानसभा चुनाव में पांचों की पांचों सीटे जीतकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के झोली में डालना है। इस बार हाटी के नाम पर वोट करने का समय आ गया है।

इस मौके पर केंद्रीय हाटी समिति के अध्यक्ष डॉक्टर अमिचंद कमल, महासचिव कुंदन सिंह शास्त्री, रणसिंह चौहान, अतर नेगी, गुमान वर्मा, जिला परिषद सदस्य मामराज शर्मा, बीडीसी उपाध्यक्ष सुनील ठाकुर, पंचायत प्रधान मोहन ठाकुर, रजनीश चौहान, सुरत चौहान, जगदीश तोमर, दिनेश चौहान, बहादुर सिंह, चंद्र मोहन ठाकुर, खजान सिंह ठाकुर, सुनीता तोमर, रक्षा देवी, लता ठाकुर, रेखा देवी आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.